Thursday, September 12, 2019

सफेद हाथी बनकर रह गया दूरसंचार प्राधिकरण ! कुछ तो करो 'ट्राई' ?


टीवी के बगैर जिंदगी मुश्किल है. रोटी, कपड़ा और मकान कां नंबर बाद में आता है. लगता है इनके बगैर हम जी लेंगे; लेकिन टीवी नहीं होगा तो हमारी सभ्यता कुपोषित होकर विलुप्त हो जायेगी!

मोदी सरकार के मूँह से निकला हर विचार, सोच एक संक्रामक बीमारी की तरह सबको जल्द हीं घेर लेता है. चाहे वह आम आदमी हो या ब्यूरोक्रेसी; सब उसके चपेट में आ जाता है. ब्यूरोक्रेसी सरकार के आदेशों को इंप्लीमेंट करती है. तो उसके कामकाज पर सरकार का असर दिखना बिल्कुल लाजमी है.

ऐसे ही सरकार से जुड़ी एक संस्था है 'ट्राई' याने टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण). इस ट्राई ने सबको परेशान करके रख दिया है. यह संस्था ग्राहकों पर ऐसे ऐसे प्रयोग कर रही है कि उसके कामकाज का तरीका अब आकलन के परे होता जा रहां है.
इस देश के आधे से ज्यादा टीवी दर्शक अर्ध शिक्षित और अशिक्षित है. यह जानते हुए भी ट्राई के सर्कुलर अंग्रेजी में निकलते रहते हैं. यह लोग इतने भी प्रोफेशनल नहीं है कि ग्राहकों को आसान भाषा में समझा सके.यह FTA मतलब फ्री टू एयर क्या है? इसके तो 154 रु.मंथली टैक्स समेत हर ग्राहक कों लग रहां हैं. फिर यह FTA कैसे हुआ? जिसके भरोसे कमाना है उसे तो यह बातें समझ में आनी चाहिए? जरूरी नहीं है कि इस फिल्ड के टेक्निकल टर्मस् और नये-नये शब्दों कों ग्राहक समझ सके. ग्राहकों में कन्फ्यूजन बने रहने का यह भी एक बड़ा कारण है. यह एक बिझनेस होकर भी ट्राई का व्यवहार बिलकुल 'सरकारी' है; जहां ग्राहकों कि कोई कीमत नहीं है.
इतने में तो रोजाना सर्कुलर निकल रहे हैं. ट्राई नई नई योजनाएं लाकर ग्राहकों के प्रति चिंता का दिखावा कर रही है; पर वह योजनाएं ग्राहकों के समझ में आए तब ना?

पिछले दिनों में ट्राई ने ऐसे ऑर्डर छोड़े हैं कि उससे सामान्य ग्राहक और नेटवर्क प्रोवाइडर भी परेशान हो गए हैं. एक सिस्टम सेट होता नहीं कि ट्राई का नया सर्कुलर आ जाता है. इसमें नेटवर्क कंपनियों का कोई नुकसान नहीं होता. उन्हें अपने बिजनेस से मतलब है. पहले ही कंपनियों के सैकड़ों पैकेजेस उपलब्ध है. उसे ही लोग समझ नहीं पा रहे हैं और रोजाना नये पैकेजेस आते रहते हैं. ट्राई और नेटवर्क प्रोवाइडर्स ने लोगों को पागल करके रख दिया है. नुकसान सिर्फ आम ग्राहकों कां होता है. नेटवर्क कंपनियां सारा कन्फ्यूजन आम ग्राहकों पर डाल देती है और ग्राहक हमेशा लूटता रहता है.

कुछ साल पहले सेट टॉप बॉक्स कंपलसरी कर दिया गया. तब बॉक्स बनाने वाली कंपनियां और केबल चालकों की चांदी हो गई. आजकल कई घरों में अमूमन दो से लेकर पाँच तक टीवी होते हैं. उतने सेट टॉप बॉक्स लोगों को लगाने पड़े. लेकिन उनकी कीमत पर किसी का कोई नियंत्रण नहीं था. शुरुआत में तो प्रति सेट टॉप बॉक्स 4 हजार रुपए वसूले गए. अगर कोई ग्राहक सर्विस प्रोवाइडर बदल दे तो सेट टॉप बॉक्स और पैसा भी गया काम से. अभी भी ट्राई ने इस समस्या पर कोई रास्ता नहीं निकाला है.

वह कम ही था कि इस साल फरवरी में ट्राई ने नया सिस्टम लागू कर दिया. सरकार का इनकम बढे और केबल ऑपरेटर्स को लगाम लगे इस के लिए यह कवायद की गई. लेकिन यह सिस्टम कैसे चलेगा, इस पर कोई स्पष्टता नहीं थी. बस ट्राई ने सर्विस प्रोवाइडर पर थोप दिया और उन्होंने आम ग्राहकों को ठोक दिया.
कंपनियों के पास ग्राहकों को समझाने का वक्त नहीं था. उन्होंने हडबड में पैकेजेस बनाएं. ग्राहकों को कुछ समझ में नहीं आया. कई दिनों तक सर्विस प्रोवाइडर के ऑफिस में चक्कर काटकर लोग थक गए. बुजुर्ग लोग और महिलाओं के भी हाल हुये. टीवी बंद होने का डर दिखाया जा रहा था.

बताया जाता कि घर को जा कर अपने पसंद के चैनल्स की लिस्ट बना कर लाओ. लोगों ने रात रात आंखें फोड़ कर लिस्ट बनाई तो फिर उसे स्वीकारने से कंपनियों ने मना कर दिया. क्योंकि हर एक ग्राहक के पसंद के अनुसार लिस्ट बनाना कंपनियों के लिए संभव नहीं था. तो फिर उन्होंने उनके हिसाब से पैकेजेस बनाकर ग्राहकों के सामने रख दिए. उसमें से चुनाव करने के सिवाय लोगों के सामने पर्याय नहीं था. इस कवायद में बिल कम करने का ट्राई का वादा पूरा न हो सका. उलटे चैनल तो कम हो गए और बिल दुगने हो गए. इस चीटिंग की वजह से कई ग्राहकों ने अपने टीवी भी बंद कर दिए है.
कुछ कंपनियां लोगों को नेट पर जाकर पैकेजेस चुनने की सलाह दे रहे थी. ग्रामीण इलाके में अभी भी जवान लड़के छोड़कर बाकी लोग इंटरनेट से उतने परिचित नहीं है. इससे जो कन्फ्यूजन फैला वह आज तक कायम है. उसका फायदा उठा कर कंपनियों ने सबको दुगने बिल के मैसेजेस भेजना शुरू कर दिया.

नया सिस्टम आते ही केबल चालक और ट्राई के बीच में झगड़े शुरू हो गए. यह मामला कोर्ट तक भी गया. आम आदमी के समझ में कुछ भी नहीं आ रहा था.लेकिन ट्राई कि फेकम् फाक बातोंपर विश्वास रखकर लोक सहते रहें. बिल कम होने का इंतजार करते रहे. यह सब हो रहा था तभी लोकसभा चुनाव आ गए. लोग परेशान थे लेकिन राष्ट्रवाद कि ऐसी आंधी चली कि देशवासियों की असली समस्याएं उस सैलाब में बह गई.

बिल बढ़ गए और चैनल कम हो गए. टीवी ग्राहक रो ही रहे थे कि ट्राई के चेअरमन शर्मा जी ने स्टेटमेंट दे दिया कि 20 परसेंट ग्राहक को के बिल कम हो गए. यह जानकारी उन्होंने किस आधार पर दी थी इसका अभी तक पता नहीं चल पाया है. लोग परेशान होते रहे...

दरमियान सैकडो जागरूक लोगों ने ग्राहकों की समस्याओं से ट्राई को अवगत कराया. ट्राई का टेंशन बढ़ गया तो इतने में उन्होंने फिर एक सर्कुलर निकाला कि नेटवर्क सर्विस प्रोवाइडर्स के पैकेजेस कि समीक्षा होगी. लोगों के बिल कम करने पर विचार होगा. ऐसे ट्राई ने कहां ही था कि कंपनियां सतर्क हो गई. शायद उनके दबाव का ही परिणाम था कि दूसरे पल ही ट्राई अपने वादे से मुकर गई. बताया गया कि कोई बड़ा फेरबदल नहीं होगा अब फिर से ग्राहक सर पर हाथ देकर बैठे हैं.अच्छे दिन के इंतजार में...
यह सरकार कुछ काम करती है और बहुत कुछ फेंकते रहती हैं. ट्राई के अधिकारियों पर सरकार के स्टाइल का कुछ ज्यादा हीं असर दिख रहा है. इस स्वतंत्र सरकारी संस्था का कोई ताल दिख नहीं रहां है. बेचारे भारतवासी केबल वालों की कृपा से जैसे तैसे 200-300 रु.में सारे चैनल देख रहे थे. तकलीफ केबल चालक भी दे रहे थे, लेकिन लोग निभा रहे थे. क्योंकि इतने पैसे में दुनिया भर के चैनल का आनंद मिल रहा था. ट्राई को लोगों की यह खुशी देखे नहीं गई. तरीका वही फेकम् फांक वाला था. नये पैकेज के अनुसार ग्राहकों का कैसा फायदा होगा, सस्ते में चैनल देखने को मिलेंगे, लोगों के पैसों की बचत होगी, जो देखोगे उसी का पैसा देना पड़ेगा, सबके बिल कम होंगे वगैरा-वगैरा बातें करके नई योजना लोगों के माथे पर मार दी गयी. अपना फायदा देख कर लोग भी राजी हुए. जनमानस काफी उत्साहित था लेकिन अब 7 महीने हो चुके हैं और लोग सर पीट रहे हैं. क्योंकि उनके बिल कम होने के बजाय काफी बढ़ गए हैं.

ऊपर से ट्राई के अधिकारी अलग-अलग स्टेटमेंट देकर लोगों को गुमराह करने का काम करते रहते हैं. शुरुआत में ही इस योजना की पोल खुल गई. रेवेन्यू बढ़ाने के लिए सरकार ने यह सब किया लेकिन पूर्व तैयारी ढंग से नहीं हुयी. जैसे नोटबंदी,जीएसटी लाते वक्त भी हुआ था.

जैसे ही लोगों की परेशानी बढ़ती है और वह कंप्लेंट करने लगते हैं उस वक्त ट्राई के अध्यक्ष बाहर आकर कोई नया शगुफा छोड़ देते हैं.और लोग अच्छे दिन आने के आस में लग जाते हैं.

लोगों कां किसी के कमाने को विरोध नहीं है; चाहे वह सरकार हो या उद्योजक. बस सिस्टमैटिकली कमाइए. करोड़ों ग्राहकों को बेवकूफ बनाकर नहीं, इतनी हीं अपेक्षा है. आखरी बात-लोगों को टीवी देखना है और उसके लिए वह खर्चा भी करने को तैयार है. लोग ढंग का रेगुलेशन चाहते हैं. यह जिम्मेदारी ट्राई को सौंपी गई है. उसे वह अच्छे से निभाए. रेगुलेटर कन्फ्यूजन बढ़ाने के लिए नहीं होता. ट्राई के लोग एक बार बैठ कर क्या करना है यह तय कर ले. बार-बार लोगों को परेशान ना करें. काम का दिखावा ना करें. ग्राहकों की समस्याओं को जल्द सुलझाएँ. दिखावे का सफेद हाथी ना बने. सात महीने बीत चुके हैं. कुछ तो करो साईं? सॉरी ट्राई...




Wednesday, August 28, 2019

काश! साध्वी प्रज्ञा कां वर्षो पहले अवतरण होता...


साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के हाल ही में दिए गए 'मारक शक्ति ' वाले बयान कों भारत वासीयों ने सिरियसली लेना चाहिये. बीजेपी के कई शीर्षस्थ नेताओं की असमय मृत्यू के पीछे विपक्ष का हाथ होने कि शंका साध्वी ने जताई है. इस के लिए मारक शक्ती कां प्रयोग हो रहां है,ऐसा उन्हे लग रहां है.
बहुत बड़े राज कि बात उन्होने कर दी है. इसका मतलब मारक शक्ती से साध्वी अच्छी तरह से परिचित है. या तो इस अविद्या की जानकारी रखने वालों कों वे जानती है. इस विद्या में इतनी शक्ती है कि बड़े से बड़े व्यक्ती कों इसके प्रयोग से मारा जा सकता है, इतना साध्वी कों पक्का विश्वास है. लगता है मारक शक्ती के बहुत गहरे राज उन्हे पता है. पहले पता था कि साध्वी जी केवल एमपी है. लेकिन अब लगने लगा है कि वे हमारी राष्ट्रीय सम्पत्ती भी है. काश प्रज्ञा जी का जन्म वर्षो पहले मुगल काल में होता...

मोदी जी अब देर ना करे. गोडसे पर दिये बयान पर उन्हे जल्द माफ कर दे और उनसे मारक शक्ती वाला हुनर सीख ले. रहीं बात विपक्ष के पास यह विद्या होने की, तो यह बात हजम होना मुश्किल है. यह विद्या विपक्ष कों पता होती तो वे विपक्ष में क्यो होते? सबसे पहले मोदी जी कां बंदोबस्त क्यो न करते?
मोदी जी, प्रज्ञा जी के रूप में इतनी बड़ी शक्ती आप के पास है तो काहे कों सर्जिकल स्ट्राईक पर रात-रात जागकर और जवानों कों जगाकर माथापच्ची करते रहें? उस रात प्रज्ञा जी को ही मंत्र  पढ़ने बॉर्डर पर भेज देते. एक मिनट में सीमा-पार बैठे सारे आतंकवादी खून की उलटी करके जहन्नूम पहुँच जाते. हमारे डोभाल जी और जवानों को भी आपने बेमतलब जगाया. आपसे भूल हुयी है. प्रज्ञा जी कों आप पहचान नहीं पाएँ. उन्हे संजोकर रखिये. भारत और आप को विश्वगुरू बनाने में उनकी बडी मदद हो सकती है.

अच्छा हुआ मोदी जी कि जेल में पीसीआर कि वेदनायें झेलते हुये साध्वी जी ने 'मारक राज' चिदंबरम को नहीं बता दिया. नहीं तो किस भाव में पड़ता मोदी जी? चिदंबरम तो आज दुनिया के सबसे शक्तिशाली नेता होते. आज आपकी सरकार ने चिदंबरम के पिछवाड़े पटाखे बांध दिये है; यह सुवर्ण अवसर आप को कैसे प्राप्त होता?
विपक्ष के पास यह शक्ती कैसे पहुँची? यह बहुत हीं गंभीर आरोप है. मोदी जी, वैसे भी आजकल सीबीआई विपक्ष के पीछे पड़ी हुयी है; तो लगे हाथ इस पर भी खोज हो जाये तो साध्वी के कलेजे को जरूर ठंडक पहुँचेगी. जल्दी किजिये मोदी जी. देश जानना चाहता है...

मारक शक्ती कांग्रेस के पास होती तो उनके सबसे बड़े दुश्मन मोदी जी पर प्रयोग करती. हमे फौज कि जरुरत नहीं होती. एक साधू को बॉर्डर पे बिठाते. मारक शक्ती का प्रयोग करवाते तो चीन, पाकिस्तानियों जैसे दुश्मनों कों मिटा देते. ना हमारी हजारों कि.मी.जमीन चीन हड़प पाता और ना हीं pok हाथ से निकलता.

मारक शक्ती से सबसे पहले मोगल, अंग्रेजो को मार देते. हम हजार साल गुलामी में नहीं जीते. दाऊद कों भारत को सौंपने के लिए पाकिस्तान के आगे हाथ नहीं फैलाते. मंत्र फेंककर उसे जगहपर हीं ढेर कर देते. ताज, ट्रायडंट में आतंकवादी निर्दोश लोगो कों मार रहें थे तब उन्हें मारने के लिए विशेष प्रशिक्षित जवानों को किसलिए भेजते? बस मारक से उन्हे मार देते.
अभी मंदी कि मार क्यो झेलते? मारक का डर दिखाकर अमेरिका, चीन, फ्रान्स, रशिया से सैकड़ों जहाज भरकर धन ले आते. फिर से सोने कि चिडियाँ का सम्मान पा लेते. बहुत कुछ हो सकता था. लेकिन यह आयडिया सूझाने में साध्वी जी ने बहुत देर कर दी.

मोदी जी, साध्वी जी से आप कहें कि बीजेपी को यह मारक हुनर दे. जल्दी से बीजेपी के पंचायत से लेकर लोकसभा उम्मीदवारों को मंत्र सिखा दो. विपक्ष के उम्मीदवारों कों मारक से मरवा दोगे तो इस देश में बीजेपी के सिवाय कोई नहीं बचेगा. फिर क्या होगा? सारी दुनिया पर हिंदू हीं राज करेंगे!
आगे जाकर कोई नहीं बचेगा तो हम आपस में हीं एक-दुसरे पर मारक का प्रयोग कर कें इस पृथ्वी कों मानवमुक्त करा देंगे. कम से कम यह प्रकृती तो खुली साँस ले पायेगी…

Saturday, August 17, 2019

मोदी सरकार कर कें दिखाएँ जनसंख्या नियंत्रण !

पहली बार किसी प्रधानमंत्री ने जनसंख्या नियंत्रण कि बात की है;  वह भी लाल किले से स्वतंत्रता दिवस के मूहुर्त पर.  कश्मीर से कलम 370 हटाने बाद मोदी जी कि चौतरफा तारीफ हो रहीं है. यहां तक कि सर्जिकल स्ट्राईक का भी इतना स्वागत नहीं हुआ जितना इसका हो रहां है. लगता है लोगो के मन कि बात पुरी हो गयी है.
मोदी जी उनके पहले के निर्णयो में आयी असफलताओं के बाद अब पुरी फिल्डींग लगाकर काम को अंजाम दे रहें है. 70 साल पुरानी बिमारी का इलाज 370 को कलम करके हो गया है, यह धारणा ज्यादातर लोगो के मन में घर करके बैठ गयी है. भारतीय समाज खास करके हिन्दू काफी आंदोलित है. विरोध का स्वर काफी क्षीण है.
 इस सरकार ने पहले से हीं अपेक्षाएँ बढाकर रख दी है, तो लोगों के मन के घोड़े काफी तेजी से दौड़ने लगे हैं. अभी राम मंदिर कि बात हो हीं रहीं थी कि जनसंख्या नियंत्रण का विषय मोदी जी ने छेड़ दिया है.

इस विषय पर पहले से कई सामाजिक संस्थाये, बुद्धिजीवी समाज को जगाने का काम करते आ रहें है. लेकिन उनकी कोशिशों को अनेक मर्यादाएँ आती है. जनसंख्या नियंत्रण पर काम करने वाले एनजीओ को पैसा मिलता है लेकिन लोगों कां रिस्पॉन्स नहीं मिलता. बीच में एक संस्था कां नंबर व्हाट्स अप पर आया था कि आबादी पर लोग मशवरा दे. लेकिन इतना बडा विषय होकर भी लोगों कों उसमे इंटरेस्ट ही नहीं है. चार लोगो ने कुछ उपाय बताये होंगे. उससे बात आगे नहीं बढ़ती. जब कि इस एक विषय पर ध्यान दिया जाये तो देश कि किस्मत पलट सकती है. लेकिन यह आँसान काम नहीं है. इसकी तुलना में नोटबंदी, सर्जिकल स्ट्राईक जैसे निर्णय भी छोटे लगते है.

सरकारें कोई भी निर्णय ले एक वर्ग खुश होता है तो दुसरा नाराज. जनसंख्या नियंत्रण पर प्रत्यक्ष काम करना बडा मुश्किल है; क्योंकि सारा समाज नाराज हो सकता है. खास तौर पर गरीब. यहां अधिक बच्चे पैदा करना अधिकार और मर्दानगी से जोडा जाता है. सरकार ने कोई सख्ती दिखाई तो लोग बौखला जायेंगे. सरकार से नाराज हो जायेंगे. इसलिए बातें सभी सरकारें करती है, लेकिन कदम उठाने कि हिम्मत कोई दिखा नहीं पाता.
मोदी जी ने कम-से-कम बात तो की है? मोदी जी काम तो करते है, साथ में कुछ फेकते भी रहते है. लोगों का मन टटोलने कां यह उनका तरीका है. अब देखिए जनसंख्या नियंत्रण पर मोदी जी बोले नहीं कि ओवेसी खडे हो गये. तीर सहीं लगा है.
कांग्रेस अभी कश्मीर पर बिझी है नहीं तो वे जरूर कुदते. अब हिंदू-मुस्लिम पर डीबेट चलता रहेगा, जो बीजेपी के लिए सबसे फायदे की बात है.
जनसंख्या नियंत्रण पर लोगो कां अनुभव अच्छा नहीं है. पिछली बार कांग्रेस के जमाने में लोगो कों पकड़ पकड़ के नसबंदी कराई गयी. कुछ लोगों ने चंद पैसे के लालच में नसबंदी करवाई थी. कुछ लोग पछताएँ और फिर विरोध हुआ तो सरकार ने कदम पीछे ले लिया.
लोग दरिद्रता में जीने को तैयार है लेकिन आबादी बढाने पर समझौता नहीं कर सकते. उसका सारा बोझ अंतिमत: सरकार पर याने कि करदाताओं पर टॅक्स बनकर पड़ता है. इस बढ़ती आबादी के कारण ही बेरोजगारी का प्रश्न विकराल रूप धारण कर चुका है. देश कि तिजोरी मे कितना भी धन आये, सारा लोगों कि प्राथमिक जरुरतों पर खर्चा हो जाता है. बचा सरकारी नोकर घर ले जाते है.

बाकी योजनाओ के लिए पैसा कम पड़ता है तो क्वालिटी से समझौता करना पड़ता है. वैज्ञानिक खोज पर पैसे के अभाव में 'जुगाड' कां असर दिखता है. फिर मोदी जी कों नाले के गॅस पर पकौड़े तलनेवाले को भी 'वाह' कहना पड़ता है. उपर से मोदी जी के ही लोग हिंदूओं को चार बच्चे पैदा करने कि सलाह देते है, तो लोग कन्फ्यूज हो जाते है.  प्रधानमंत्री कि सुने या धार्मिक नेताओं की सुनकर घरकी सदस्य संख्या बढ़ाए यह सवाल खड़ा हो जाता है.
लोग आबादी को ज्यादा गंभीरता से लेंगे ऐसा लगता नहीं. ऐसे विषय उनके दिल को छुते ही नही. लोगों को क्या चाहिए? रोजाना सनसनी! यहां अखबारों मे क्राईम पहले पन्ने पर होता है. जबतक रेप कि चार सवर्णन खबरे पढ नहीं लेते हमारा दिन अच्छे से नहीं कटता. इस देश कि दरिद्रता का बढ़ती आबादी यह एक प्रमुख कारण है. लेकिन ऐसे विषय को ना अखबार ना टीवी चैनल पूँछते है.

भारत में एवरग्रीन मुद्दा एक ही है. भारतवासी चाहे भूखे रह लेंगे, लेकिन हिंदू- मुस्लिम डीबेट नही देखे ऐसा हो नहीं सकता. वहीं भारत का राष्ट्रीय खाद्य है. इसीलिए किसी भी चुनाव में असली शराब के साथ 'हिन्दू-मुस्लिम' घुट्टी भी लोगो को पिलाई जाती है. उस नशे में वोटिंग होता है. पहले से हीं मन से बटे हुये हिन्दू-मुस्लिम और बट जाते है. कोई नई बात नहीं है. यह एक खेल है; जिसका कोई फायनल नहीं है.
 जब मोदी जी ने जनसंख्या नियंत्रण पर बात की उसके कुछ मिनट बाद ही ओवेसी ने विरोध का सूर लगा दिया. जैसे केवल मुस्लिमो कि आबादी रोखने कि बात मोदी जी ने कर दी हो. चलो, हिंदू- मुस्लिम वाला रंग तो लग गया. अब टीवी पर डीबेट चलेगा.
यह सरकार दो तरह से काम करती है. एक करने के काम और दुसरे कहने के काम. जनसंख्या नियंत्रण दुसरे कॅटेगिरी का कहने का काम है.
जनसंख्या नियंत्रण महाकठीण काम तो है, लेकिन नाक में पानी आ रहां होगा तभी तो स्वतंत्रता दिवस पर मोदी जी को बात उठानी पड़ी है. जनसंख्या विस्फोट भविष्य कां नहीं आज का संकट है.डेढ सौ करोड़ के करीब हम आ चुके है.अभी तो लोग एक-दुसरे को सिर्फ लूट रहें है.बढती आबादी के कारण हीं सरकारें और समाज का सिस्टम दम तोड रहां है. आगे क्या होगा यह बात शिक्षित वर्ग अच्छे से सोच-समझ सकता है.


Friday, August 9, 2019

मोदी सरकार कि दे दनादन...


मोदी सरकार दनादन निर्णय ले रहीं है. यह स्टाईल लोगों को पसंद आ रहां है. उसी कारण लोगों ने उन्हें दोबारा चुनकर दिया है. शायद बीजेपी इम्लिमेंटेशन और रिझल्ट पर ज्यादा माथापच्ची नहीं करती है. तभी कुछ काम होता दिख भी रहां है. कम से कम लकवाग्रस्त कांग्रेस से तो यह स्टँड लोगों को अच्छा हीं लग रहां है. यह धक्का देनेवाली सरकार है.
इस के पहले कि विपक्ष संभल पाता अभी अभी जम्मू-कश्मीर से 370 हटाने का निर्णय झटके में हो गयां. अब अच्छा हुआ या बुरा इस पर सालों-साल डीबेट होती रहेगी; मोदी जी ने काम कर दिया है.
अभी भी जीएसटी, नोटबंदी के झटके से लोग उभरे नहीं है. मोदी जी ने एक दिन घोषणा कर दी.बाकी काम बँक और लोगोंपर छोड़कर वे आगे बढ गये.
ऐसे हीं एक दिन जीएसटी लागू हो गया. कुछ दिन व्यापारी और लोग पागल हो गये. अभी भी बदलाव हो रहे है. मोदी जी कों पता है, व्यापारी,प्रशासन और लोग आपस में देख लेंगे. नोटबंदी के बाद भी लोग शॉक में थे. हर निर्णय को ऐतिहासिक बताने कां इस सरकार कां तरीका है. तो किसी निर्णय से लोगों कि अपेक्षायें बढ जाती है. कुछ अच्छा होने वाला है, ऐसी आम धारणा बन जाती है. नोटबंदी से काला धन बाहर आयेगा, यह खयाल हीं कितना सुहाना है? तो कई लोगों ने घंटो धूँप में बँको के बाहर लाईन में लगकर मरना पसंद किया; लेकिन सरकार के निर्णय का स्वागत किया.
जीएसटी के पहले एक्स्पर्ट्स को टीव्ही पर बिठाकर उसके फायदे गिनवाये गये.टॅक्स कम होगा,चीजे कैसी सस्ती होगी,यह ख्वाब लोगों के मन में जगाया गया. लोग खुश हुये कि अब महंगाई कम होगी; लेकिन हमारा व्यापारी कभी घाटे में नही होता. टॅक्स को उन्होने कुबूल किया और सारे चीजों के दाम 25 से 40 परसेंट बढ़ा दिये. मोदी सरकार आगे बढ गयी है और लोग समझ नहीं पा रहें है कि चीजें कब सस्ती होगी. सामान्य आदमी को इस बात का आश्चर्य होता है कि मैं तो महंगाई के चटके झेल कहां हूँ, लेकिन महंगाई है हीं नहीं यह दर्शाने वाले आँकडे कौन बनाता है? यह आँकडे महंगाई को साफ नकार रहें है.
कलम 370 हट गया. इस के लिए बड़ी ईच्छाशक्ती चाहिये. हिंमत का काम है. अब कश्मिरीयों को जोड के रखने काम असली काम बाकी है. कांग्रेस के राज में क्या निर्णय होगा इसका अंदेसा लोगों को ही नहीं पाकिस्तान को भी हो जाता था. अब तो किसी को कुछ पता हीं नहीं चलता. मोदी जी क्या करेंगे यह ना लोगों को ना विपक्ष को पता होता है. बाद में सब रोते रहते है कि हमें विश्वास में नहीं लिया. मोदी जी सब को सिखा रहे कि विश्वास में लिया तो कोई बडा निर्णय नहीं हो पायेगा. तो इधर कांग्रेस परेशान रहती है और उधर पाकिस्तान.
अब कांग्रेस टेक्निकल की चक्की पीसकर कुछ निकालने की कोशिश कर रहीं है. उससे कोई फायदा नहीं होगा. उधर कश्मीर में पहलें ही सारे नेताओ तों अंदर कर दिया गया है.बाकी लोग घरों में कैद है. अभी विरोध होगा भी तों नहीं दिख रहां है. मोदी जी का अपना स्टाईल है- आगे जो होगा उसे देख लेंगे. लोगों को भा रहां है. इस बात में कोई दम नहीं है कि यह वोट बँक पॉलिटिक्स है. भारत में शायद हीं कोई काम वोट बँक पॉलिटिक्स को नजरअंदाज कर के किया जाता है. अगर 370 हटाने से हिंदू खुश होते है तो यह कलम अबतक 70 साल रखना मुस्लिमों को खुश रखने के लिए था, ऐसा अर्थ निकलता है. तो कम से कम कांग्रेस को मूँह नहीं बचा है कि वे इस सरकार पर वोट बँक पॉलिटिक्स का आरोप लगायें.
एक बात है- मोदी सरकार पर जब भी कोई संकट आता है तो वे रास्ता निकाल लेते है. अभी इकानामी के हालात खस्ता होने कि चर्चा चल हीं रहीं थी की मोदी जी ने 370 निकाल दिया. अब इकॉनामी 370 से बढकर थोडे ही है? जवाब धीमे आवाज में दिजिये; नहीं तो देशद्रोही करार दिये जावोगे.
अब असली सवाल पर आतें है.
समूह का मन होता है? पता नहीं; लेकिन ऐसा होता होगा तो कभी इस देश ने व्यापारीयों कां युग आने कि कामना जरूर की होगी.बीजेपी के सत्ता में आते हीं वह ईच्छा शायद फलीभूत हो गयी है. भारत के आर्थिक हालात कुछ भी हो, आखिरकार व्यापारीयों कों यह देश मनमुताबिक चलाने कां सौभाग्य प्राप्त हुआ है.
जब से मोदी जी प्रधानमंत्री बनें है, देश के व्यापारीयों के लिए सुवर्णयुग कां अवतरण हुआ है.वैसे भाजपा पहले से हीं व्यापारीयों की पार्टी कहलाती जाती रहीं है. आलोचकों कां यह नजरीया बदले इसके लिए पार्टी कोशिश भी करती रहती है.
देश के तरक्की के आँकडो में तो लगातार गिरावट आने कि बांत हो रहीं है, लेकिन ना सरकार पर कोई असर पडा है और ना हीं उद्योजकों को कोई फर्क पड़ता है. ऑटो,एफएमसीजी और लगभग सारे क्षेत्रों के आँकडे गिरावट दिखा रहें है. एक्स्पोर्ट के हालात खराब है. इम्पोर्ट हीं इम्पोर्ट है. जब के मोदी जी के कॅबिनेट में ज्यादातर नेता मूलत: व्यापारी हीं है. उन्हे लगातार दस साल देश चलाने का मौका मिल रहां है. लेकिन इकॉनामी पटरी पर आती दिख नहीं रहीं है.
कहां गया था कि जीएसटी,नोटबंदी से इकानामी दौड़ेगी. दिख तो नहीं रहां. बस सबके पास अपने समर्थन में आँकडे जरूर है; लेकिन उससे लोगों कों केवल भ्रमित किया जा सकता है. उस पर विश्लेषण करना एक्स्पर्ट्स काम है. अभी के सरकारी आँकडे तो गिरावट ही दिखा रहें हैं.
इकॉनामी कि समझ पाँच टका लोगों कों होगी. बाकी लोग इस विषय में लगभग अनपढ़ है. तो कांग्रेस अलग आँकडे दिखाती है तब लोगो कों लगता है कि देश डूब रहां है. बीजेपी कां सवाल हीं नहीं है. वह सत्ता में है तो कहीं कुछ गलत होनें कां सवाल हीं नहीं है. उनके पास जो आँकडे है उससे तो ऐसा लगता है कि जल्द हीं लोगों के घर पर सोने के स्लॅब होंगे! यह आँकडो का खेल सत्ता और विपक्ष में सालों-साल चलता रहता हैं. उसमे उलझना और मूर्ख बनने कि जिम्मेदारी आम आदमी पर है. यह भूमिका लोग इमानदारी से निभाते आ रहें है.
अब आगे क्या होगा? बहुत से सवाल अधर में लटके है. 370 से बीजेपी समर्थकों को भावनिक टॉनिक मिला है. यह मुद्दा मोदी जी की सत्ता रहते गुंजता रहेगा.
चर्चा हो रहीं है कि अब राम मंदिर पर कुछ होगा. हो जाये तो अच्छा है. देश में अनगिनत समस्यायें है. बेरोजगारी है. सरकारी बाबूओका करप्शन जैसे थे है. एनपीए फूल रहां है और सबसे ख़तरनाक बांत न्याय खतम हो गया है. छोटे-बड़े कोर्ट में करोड़ों केसेस पेंडिंग है. वहां ज्यादातर समझौते चोरों के हित में हो रहें है. भले ही कश्मीर ने बीजेपी को केंद्र में सत्ता दिलाई हो,लेकिन कब तक कश्मीर पर हीं फोकस रहेगा? देश की समस्याओं पर भी सरकार को ध्यान देना होगा. कब तक लोग भावनिक मुद्दों पर झुलते रहेंगे?

Thursday, August 1, 2019

लकवाग्रस्त सरकार से रॉबिन हुड सरकार तक...2


कांग्रेस के प्रति नफ़रत भरा वातावरण और उपर से जुमलों का तडका यह 2014 मे बीजेपी को सिंहासन पर चढ़ाने का यशस्वी फार्मुला बन गया. मोदी जी भारतीय जनता की आकांक्षाओं के प्रतीक बन गये.उनके मूँह से निकलने वाले हर शब्द को लोग सर माथे पर लेने लगे. अच्छे दिन आने का माहौल बनाने में बीजेपी सफल हो गयी. वर्षो बाद बहुमत में आती यह नयी सरकार राॅबिनहुड कि तर्ज पर काम करने लगी.

बीजेपी सरकार ने कई चमत्कारिक निर्णय भी लिए. उसका देश को कोई विशेष लाभ नहीं हुआ लेकिन सरकार कुछ तो करती दिख रहीं थी. लोग उसी से खुश थे. सरकार के हर निर्णय के पीछे लोग खड़े हो जाते. कांग्रेसीयों के पास सारा नेटवर्क तय्यार था.लेकिन सरकार की नाकामियों को उजागर करने की भूमिका निभाने की भी उनकी मानसिक तय्यारी नहीं थी. अगली बार सत्ता में आना हीं है तो मेहनत क्यों करना यह कांग्रेस का स्टैंड कायम रहां.
2019 में दुसरी बार मूँह की खाने बाद भी इस भूमिका में कोई बदलाव नहीं आया है. बस राहुल के अध्यक्षपद छोड़ने का एक नाटक छोड़कर अन्य कोई बदलाव के लिए पार्टी बिलकुल भी तय्यार नहीं है.

कांग्रेस के बाकी नेता, जिनका पार्टी को डुबाने में बडा हाथ है वह तो सीबीआई, ईडी के डर से या तो अज्ञातवास में चलें गये है या अपने परंपरागत धंदे में लग गये है. इन नेताओ से लोगों को काफी एलर्जी है. उनके छुपने का यह भी एक कारण है. उनको कांग्रेस के सत्ता में आने का इंतजार है.

राहुल मेहनत करके सत्ता दिलायेंगे तो यही नेता सेंटर में मंत्री बनेंगे यह बात बच्चा भी जानता है. आज भी कभी 88 साल के मनमोहन राहुल के साथ प्रेस में दिखते है, तो लोग डर जातें है. कम से कम बीजेपी ने 75 उम्र पार नेताओ को मार्गदर्शकों के फोल्डर में डालकर बहुत बढीया काम किया है. कांग्रेस को यह बुद्धी कब होगी पता नही.

लोगों कि आकांक्षाओं पे सवार होकर पहली बार मोदी सरकार सत्ता में आयी तब देश में काफी उत्साह का वातावरण था. बड़े अंतराल के बाद किसी गैर कांग्रेसी पार्टी को बहुमत मिला. लोग कांग्रेस का नाम तक लेना नहीं चाहते थे. सत्ता में आने के पहले जिस तरह बीजेपी ने लोग लुभावन जुमलों का इस्तेमाल किया वह सिलसिला मोदीजी की दुसरी टर्म में आज भी जारी है.वैसे मोदी जी कि पहली टर्म में ही जुमलों का नशा उतर गया था. लेकिन कांग्रेस उसका फायदा नहीं उठा पायी.

अब जुमले निकलने का स्पिड थोडा कम हो गया है. क्योंकि लोगों ने बीजेपी को अपेक्षा से बहुत ज्यादा दिया है. लोग ऐसे ही इस छोर से उस छोर झुलते रहते है. अबतक लोगो को हिंदुत्व भाता नहीं था और सेक्युलर बच्चा सबका चहेता था. सेक्युलेरिजम कि सिंपल व्याख्या थी. हिंदू शब्द कम्युनल और मुस्लिम सेक्युलर. अब मोदी जी के राज में सेक्युलर शब्द ही गायब हो गया है. अब अच्छों अच्छों कों खूद को हिंदू कहने में गर्व महसूस होता है.

सेक्युलर अब सौतेला हो गया है. उसको कोई पूँछता नही. कांग्रेस क्या कम्युनिस्टों ने भी यह टेप बंद कर दिया है.क्योकि वोटरों ने पलटी मार दी है. यहीं हमारी खासीयत है. यहीं कारण है कि चुनाव के समय असली मुद्दे लोग भूल जातें है. हमे हमेशा दिमाग को झकझोरने वाला खाद्य चाहिये होता है.

मोदी सरकार ने अपेक्षाए बढाकर रखीं है. उस मुताबिक बहुत सारे जुमले गढ़ना और कुछ काम, ऐसा उनका काम का तरीका रहां है. लेकिन सिस्टम और तरीका कांग्रेस का हीं है,इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता.

स्पिड तो कांग्रेस से किसी की भी बेहतर हो सकती है. कांग्रेस पर काम का कोई दबाव नहीं होता. लोग जायेंगे कहां, इस सवाल का जवाब कांग्रेस ही होता था. बस अब दुसरा नाम बीजेपी का जुड गया है. लेकिन कांग्रेस का नाम कायम है और रहेगा. क्योंकि लोगों पर भरोसा नहीं कर सकते. खैरात वाली स्किमे निकलना बंद होते ही लोग पलटी मारकर कांग्रेस के साथ हो लेंगे. यह बात मोदी जी जानते है. सारी सरकारों के पास एकही बकरा है -मध्यमवर्ग. यह वर्ग सरकार को पैसे कि कमी नहीं पड़ने देता.

कम्युनिस्टो का वजूद नहीं के बराबर है और प्रादेशिक पार्टीयां दोनो प्रमुख पार्टीयों के गुलामी के लिए मजबूर है. आम आदमी पार्टी ने काफी उम्मीदें जगाई थी. लेकिन वह भ्रम साबीत हुआ. पैसे के सिवाय किसी पार्टी का अस्तित्व हीं असंभव है. इसलिए सत्ता से पैसा और पैसे से सत्ता, यह सोच हमारे लोकतंत्र पर एक शाप की तरह लागू होती है. यहीं हकीकत है.
मोदी सरकार का स्टाईल रॉबिनहुड कि तरह चौकानेवाला रहां है. उसने एक पर एक प्लेझंट सरप्राईज देने कि कोशिश की, जो के ज्यादातर फेल हो गये(नोटबंदी,जीएसटी).लेकिन लोगों ने उसको भी सह लिया. क्यों के दुसरा पर्याय कांग्रेस के सिवाय दुसरा कोई नहीं है.अभी भी कांग्रेस के प्रति लोगों का घुस्सा कम होता दिखाई नहीं दे रहां है.

मोदी जी का अपना स्टाईल है. उनके निर्णय चौंकानेवाले होते है. निर्णय लेकर वे आगे बढ जाते है. ऐसे में किसी काम का भविष्य नोकरशहाओ पर निर्भर होता है. इस दुनिया में सबसे सुरक्षित प्राणी अगर कोई है तो वह सरकारी नोकरी ही है. किसी गलती पर प्रधानमंत्री का पद जा सकता है, पर नोकरशहां हजार गंभीर अपराधों के बाद भी प्रमोट होता रहता है. एकदुसरो के प्रकरणों की चौकसी वहीं करते है. घर बैठे सेलरी लेकर आगे सबूतों के अभाव में छुट जाते है. अटकी हुयी सेलरी ब्याज समेत उठाकर वे पुन्हा पदस्थापित हो जाते है.

बहुत भाग्यवान वर्ग है जो लोगों के छाती पर बैठकर राज कर रहें है. चाहे कोई भी सरकार हो. मोदी जी सरकारी नोकरो को खूब खुश रखते है तो वे चुनावों में स्वामीनिष्ठा को निभाते है.
मोदी जी हर काम को नया आकर्षक लेबल लगाकर पेश करते है. उनके पास बहुतेरे एक्सपर्ट है, जो सरकारी योजनाओ को 'पहली बार' वाला ठप्पा लगाकर उसका गुणगान करते है. लेकिन उस योजना को अंजाम देनेवाले लोग नोकरशहां तो वहीं है. जिन भ्रष्ट सरकारी नोकरशहां से लोग त्रस्त है, उनसे सख्ती से काम करवाने के बजाय उन्हें चोपडकर काम करवाने का कांग्रेस का स्टाईल बदस्तूर बीजेपी के राज में भी जारी है.


Thursday, July 25, 2019

लकवाग्रस्त सरकार से रॉबिन हुड सरकार तक...1

वक्त का तकाजा है; एकेक राज्य कांग्रेस के हाथों से छिटकता चलां जा रहां है.कर्नाटक गया उस धक्के से संभले भी नहीं के अब मध्य प्रदेश कि बांतें हो रहीं है.डूबते जहाज में कोई रुकना नहीं चाहता. उधर राहुल अध्यक्षपद छोड़कर चुप हो गयें है. कांग्रेस का हाल बहुत बुरा है.

कांग्रेस ने वर्षो तक राजा- महाराजाओं के ठाठ में काम किया है. क्या पीछले 70 साल में देश में कुछ भी काम नहीं हुआ, यह कांग्रेसीयो का सवाल अब पनियल हो गया है. लेकिन उसकी उन्होने फिक्र नहीं की.सत्ता गयी तब भी. सामने आसपास कोई दिखता भी नहीं था. सो अपने ही तरीके से देश को हांकते रहें. कांग्रेस के इसी रवय्ये से 'पॉलिसी पॅरेलिसीस' इस शब्द का लोगों को परिचय हुआ.
2014 चुनाव में कांग्रेस की निंद खुली पर कुछ ही समय के लिये. बाद में वे फिर सो गये. यह सोचकर कि 2019 में वैसे ही उनकी सरकार आ जायेगी. मोदी को वे फेकू कहते.उनकी फेकम् फांक ज्यादा दिन नहीं चलेगी,ऐसा उन्हे दृढ विश्वास था. बात कुछ हद तक ठीक भी थी.लेकिन कांग्रेस से लोग ज्यादा त्रस्त थे. उसका फायदा उठाकर बीजेपी ने खूब फेकम् फांक की और लोगों की उम्मीदों कों एक्ट्रीम उँचाई पर पहुंचा दिया.

कश्मीर में जवानों पर हुये हमले तक बीजेपी कि हवा टाईट थी. खुद उनके नेता भी नहीं कहते कि सत्ता आयेगी. साढे तीन सौ कि बात तो कोई भी नहीं करता था. लेकिन जिस हमले को बीजेपी का फेल्यूअर बताया जाना चाहिये था, उसी पर राष्ट्रवाद खडा कर के बीजेपी ने 2019 के चुनाव में भी कांग्रेस को बुरी तरीके से पछाड़ दिया. लेकिन कांग्रेसीयों की चमडी कुछ ज्यादा ही मोटी है. कांग्रेस के सब बड़े नेताओंपर इतनी चरबी चढ़ी है कि चाहे कांग्रेस पुरी डूब जाये,उनके पेट का पानी भी हिले तो कसम है.

लोगों ने कांग्रेस को पुरी तरीके से नकार दिया है,ऐसे भी नहीं है. बुरे समय में भी कांग्रेस का वोट शेयर बढ़ा है.सब धर्म- समाज में एक ऐसा बडा वर्ग है, जो इस देश को कभी भी कांग्रेसमुक्त नहीं होने देगा. प्रॉब्लेम कांग्रेस के बड़े नेता और उनके काम करने के तरीके का है. अब ऐसे नहीं चलेगा इसके संकेत बार बार वोटरों ने दिये है. लेकिन आत्म परीक्षण के आड़ में कांग्रेस मामले को ठंडा होने देती है; लेकिन कोई ठोस निर्णय नहीं लेती.

सत्ता में थे तब भी उनका काम करने का तरीका ऐसा ही था. कांग्रेसी नेता वर्षो सत्ता में रहें. उन्होने सौ पीढीयों कि माया इकठ्ठा की; लेकिन जब कांग्रेस पे वक्त आया तो कोई आगे आने को तैयार नहीं है. उलटा उन्होने आसान रास्ता खोज लिया है, बीजेपी की तरफ रुख करने का. पार्टी में बचे लोगों ने भी वहीं किया- राहुल के कंधे पर सारा बोझ डालकर वे सेफ हो गये. अब खुद राहुल ने हटकर बडा प्रॉब्लेम खडा कर दिया है.
कांग्रेस बड़ी होशियार जमात है. 2019 के चुनाव के पहले उन्होने गेट पर राहुल को खडा कर दिया
था. गुरखा बनाकर. वे जागते रहो,जागते रहो चिल्लाते; लेकिन कोई उनकी नही सुनता. कभी निराशा के दौर मे विपश्यना के लिये विदेश निकल जाते. कांग्रेसी उनको खूब दौडाते. राहुल रफाल- रफाल रट लगाते; मोदी को चोर कहते. राहुल अकेले ही दौड़ते. कोई कांग्रेसी नेता उनके साथ नहीं होता.साथ देते भी तो गलत स्थान पर. संसद में आँख मारने पर किसी बड़े नेता ने उन्हें समझाने के बजाय उस मोमेंट को एन्जॉय किया.

जिस कारण कांग्रेस सत्ता के बाहर गयी उस करप्शन पर उन्होने एक शब्द पहले भी नहीं कहां और आगे भी कुछ कहेंगे- करेंगे इसकी उम्मीद नहीं हैं. कम से कम दिखावे के लिये ही सहीं,' करप्शन पर झिरो टॉलरन्स' वाला जुमला बोल देते तब भी लोग एक बार जरूर सोच लेते. असल में केंद्र सरकार के लेवल पर हो रहे करप्शन से कांग्रेस सत्ता से बाहर गई यह आरोप हीं गलत है.कांग्रेस पहले से ही करप्शन के लिये बदनाम थी, फिर भी लोग उसको पसंद करते और उन्हें ही चुनकर देते. करप्शन भारत के डीएनए में बसा है. इसलिये लोग नेताओं को भी माफ कर देते है.
लोग लोकल लेवल पर आ रहीं समस्याओं से त्रस्त है. कोई काम पैसे के सिवाय नहीं होता. चारो तरफ भ्रष्टाचार व्याप्त है. नोकरशहा लोगों को नोचकर खा रहें है. पुलिस,कोर्ट में न्याय पाना आम आदमी के बस में नहीं है. आज का गुजारा कैसे हो, इसी जुगाड में आम आदमी की जिंदगी कट रहीं है. ऐसे में नेताओं के करप्शन पर सोचने का वक्त उसके पास कहां से बचेगा?

नेता कौनसे घोटालों में लिप्त है, उन्होने टू जी,थ्री जी, कोयले में किसने कितने लाख करोड खाये इससे लोगों को कोई लेना- देना नही है. बीजेपी के राज में भी इस हालात में कोई बदलाव नहीं आया है. टुकडे गँग का अपना एजेंडा हो सकता है. लेकिन इस राज में ढेरों समस्यायें जस के तय है.सभी वर्ग के लोग त्रस्त है.
आज सारे प्रश्नों के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया जा रहां है. लेकिन जल्द ही बीजेपी भी कटघरे में होगी. खाली वक्त का फायदा संघटन पर ध्यान देकर उठाने की जिम्मेदारी कांग्रेस की है. वे बीजेपी के भ्रमजाल में ना फंसे रहे.
मजबूत लोकतंत्र के लिये कांग्रेस का मजबूत होना उतना ही जरुरी है. समय के साथ बीजेपी ने खूद को बदला है. संघटन को मजबूत बनाया. कांग्रेस को मोदी की नकल नहीं करनी चाहिये. लेकिन वे उसी मार्ग पर जा रहें है.कांग्रेस और उसकी सरकारों को काम का तरीका अब बदलना ही होगा. यह बात कांग्रेस को जिस दिन खयाल में आयेगी, उसका रिवायवल उसी दिन से शुरू हो जायेगा.

Friday, July 12, 2019

धोनी नाम कां शेर अब बुड्ढा हो रहां है..


महेंद्र सिंग धोनी विश्व स्तर के महान क्रिकेटर है. भारत के सबसे यशस्वी कप्तान रहें है. आज भी मैदान पर आधी कप्तानी तो वहीं करते दिखाई देते है. टीम कों उनकी जरुरत महसूस हो, ऐसा खेल कप्तानी, बॅटिंग और लाजवाब विकेट किपिंग से वह दिखातें रहें है. लेकिन जिस कारण से वे दुनिया में जाने जाते रहें है, वह 'फिनिशर' वाला तमगा अब उन्हें अब शोभा नहीं देता.
एक समय था जब धोनी मैदान में होतें तब तक जीत का विश्वास जिंदा रहता था. वह भरोसा अब मॅच दर मॅच टूँट रहाँ है. धोनी अब उस श्रेणी में आ गये है, जहां एक महान खिलाडी बोझ बन जाता है.
इंग्लैंड से हारने के बाद धोनी के धीमे खेल को जिम्मेदार ठहराया गया. उनकी जमकर आलोचना हुई. उसी दरम्यान, वर्ल्ड कप के बाद उनके रिटायरमेंट की न्यूज जान बूझकर फैलाई गयी. खबर फैलाने वाले उनके दुश्मन रहें होंगे ऐसा लगता नहीं. धोनी सेमी फायनल और फायनल में धमाकेदार खेल दिखायें और भारत को कप दिलायें यहीं उद्देश उस खबर के पीछे रहां होगा. धोनी ने भागीदारी तो अच्छी निभाई लेकिन धीमे खेलने की उनकी बिमारी अब आगे भी क्युअर होने वाली नहीं है, यह संकेत फिर से दे दिये.

न्यूझिलंड के मॅच में भी वही हुआ.वे आखिर तक धीमा खेलते रहे. और ऐन मोकेपर उनका रन आऊट होना चमत्कार से कम नहीं था. भारतीय खिलाडियों को रनिंग बिटविन अपने उदाहरण से सिखानेवाला खूद रनआऊट हो गया. भारत की उम्मीदों पर पानी फेर गया. शेर अब बुड्ढा हो गया है, इसके यह संकेत दिखते है
पीछले कुछ वर्षो से उनका खेल ऐसा ही रहां है. अगर जीतने के लिये पाँच का रनरेट चाहिये तो वह रेट दस-बारह तक चला जाता है; लेकिन धोनी रिस्क नहीं उठाते. जब मॅच हाथ से निकल जाता है तब 49-50 वे ओवर में वे चौके-छक्के लगाते है. जिससे उनका स्थान तो टीम में बना रहता है लेकिन भारत हार जाता है. धोनी साथी को खेलने का ज्यादा मोका देते है यह बात सहीं है. लेकिन वह खूद सेट होकर भी रिस्क नहीं लेते. उसका दबाव दुसरे खिलाडी पर बनता है. रनरेट के दबाव में वे आऊट होते जाते है.
एक महान खिलाडी जो अभी भारतीय टीम के साथ है, रवी शास्त्री में भी धोनी की तरह सारी प्रतिभायें थी. शास्त्री के पास भी दो ही गीयर थे. वे भी बॅटिंग में रुद्रावतार धारण करने की क्षमता रखते थे लेकिन ज्यादातर इतनी धीमी पारियां खेलते कि भारत को हराकर ही दम लेते थे. उस जमाने में 150-180 का स्कोर बडा माना जाता था. लेकिन भारत तीन के रनरेट को भी हासिल नही कर पाता था. बाद में शास्त्री आते और मेडन पर मेडन ओवर निकालते. मानो कमजोर बॉल पर भी चौका मारते तो प्रलय आ जाता.धीमे खेल के कारण तीन का आस्किंग रनरेट 7-8 तक चला जाता और शास्त्री आऊट हो जाते. उस बोझ तले दबकर बचे खिलाडी हाराकिरी कर लेते. भारत हारता रहता. धोनी को वैसे ही खेलते देखकर शास्त्री को अपने दिन जरूर याद आते होंगे. इसमें कौन गुरू है यह तय करना मुश्किल है.
धोनी के लिये अधिक दुख होता है. क्यों की उन्होने भारत को जीतना सिखाया है. अब हरानेवाला धोनी ऐसा ब्लेम लगने के पहले उन्होंने वन डे क्रिकेट छोड़ देनी चाहियें. वैसे उनपर बेरोजगारी का वक्त तो बिलकुल भी आनेवाला नहीं है. आयपीएल वाले तो उन्हे मूँहमांगी किमत हर साल देते ही है. आगे भी देते रहेंगे. बीसीसीआई को भी उनकी चिंता है. किसी स्टँड को उनका नाम मिलना तो पक्का लगता है.
धोनी के खेल में वैसे कोई खोट नहीं है. वह खेल सकते है. लेकिन अब यह फार्मेट उनके काम का नहीं रहां है. असल में उन्हे उमर के लिहाज सें आ रही मर्यादाओं को ध्यान में रखकर 20-20 और वन डे फाॅर्मेट को छोड़ना चाहिये था. लेकिन बात उलटी हो गई है. उन्होनें टेस्ट क्रिकेट छोड़ दिया. इसी टेस्ट फाॅर्मेट के लिये वह आज भी ठीक है और बीसीसीआई उन्हे उमर के पचास साल तक भी 'खिला' सकती है. कोई दिक्कत नही है. धोनी का ब्रांड नेम अगले दस साल तक भी चल सकता है.
भारतीय क्रिकेट के लियें धोनी का योगदान अतुलनीय है. जहां हार ही हमारी किस्मत थी और टीम में स्थान बनायें रखना ही पुरुषार्थ था; ऐसे में एक छोटे शहर का युवा आता है खुद के बल पर चमत्कारिक खेल का प्रदर्शन करके एक से एक जीत दिलाता है. मरे हुये और केवल दांवपेंचों का अखाड़ा बने हुये भारतीय क्रिकेट कों उसने कप पर कप जितवाकर गौरव दिलवाया.आत्मविश्वास गवाँ चुकें टीम में जान फूँक दी. कई सिरीज़ जितवाई. विश्व कीं बड़ीं टीमों को कई बार पटखनी दी.
हार को आदत बना चुके भारतीय क्रिकेट को जीत की आदत दिलाने का श्रेय किसी खिलाड़ी को जाता है तो केवल धोनी ही है. लेकिन अब वक्त आ गया है किसी दुसरे को आगे लाने का. कोई महान खिलाडी खूद होकर टीम से बाहर होना नही चाहेगा. लेकिन कहाँ रुकना है इसका निर्णय-समय खिलाडी खूद तय कर ले तो उसके प्रतिष्ठा में चार चाँद लग जातें है. नहीं तो उसकी अवस्था दयनीय होने की संभावना ज्यादा होती है.
मॅनेजमेंट महान खिलाडी के नाते उसको टीम से निकाल नहीं सकती. तो उसको ढोना पडता है. यह क्रिकेट के लिये ठीक बात नहीं है. गावस्कर, कपिल, सचिन जैसे खिलाड़ीयों ने अपने खेल से करोड़ों क्रिकेट प्रेमीयों के मन पर कई साल राज किया. लेकिन वे भी रुकने का निर्णय नहीं ले पायें. खिलाडी की उमर चाहे कितनी भी हो जाये, फाॅर्म वापस आने की आस उसको लगी रहती है. आखिर उनको कई हथकंडे अपनाकर मॅनेजमेंट ने दूर किया. ऐसे महान खिलाडी टीम से बाहर गये तो भारत का क्रिकेट रुक थोडे ही गया? धोनी मिल ही गया. अब धोनी की भी बारी है. धोनी रास्ता खोल दो! पीछे कई खिलाडी धक्के मार रहें है.